The constitution of India : भारत का संविधान

भारत का संविधान उद्देशिका

“हम भारत के लोग, भारत को संपूर्ण प्रभुत्व सम्पन्न

समाजवादी पंथ निरपेक्ष लोकतंत्रात्मक गणराज्य, बनाने के लिए,

तथा उसके समस्त नागरिकों को :

सामाजिक, आर्थिक और राजनैतिक न्याय,

विचार, अभिव्यक्ति, विश्वास, धर्म

और उपासना की स्वतंत्रता

प्रतिष्ठा और अवसर की समता

प्राप्त कराने के लिए,

तथा उन सब में

व्यक्ति की गरिमा और राष्ट्र की एकता

और अखंडता सुनिश्चित करने वाली बंधुता

बढ़ाने के लिए

दृढसंकल्प होकर अपनी इस संविधान सभा में आज तारीख

26 नवंबर, 1949 ई. (मिति मार्गशीर्ष शुक्ला सप्तमी, संवत् दो

हज़ार छह विकमी) को एतद्द्वारा इस संविधान को अंगीकृत,

अधिनियमित और आत्मार्पित करते हैं।”

Scroll to Top