स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) SBM

गई थी जिसका लक्ष्य महात्मा गांधी की 150 वी जयंती पर अर्थात 2 अक्टूबर 2019 तक उनको श्रद्धांजलि स्वरूप भारत को ‘स्वच्छ भारत’ बनाना था। स्वच्छ भारत मिशन का लक्ष्य देश भर में खुले में शोध की शर्मनाक आदत उन्मूलन कर, विशेष रूप से महिलाओं और बच्चों के लिए स्वच्छ, सुरक्षित और सुलभ वातावरण उपलब्ध कराना था। स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण). जिसे दुनिया का सबसे बड़ा व्यवहार परिवर्तन कार्यक्रम कहा गया है. के तहत जमीनी स्तर पर जन आन्दोलन पैदा करके इस असंभव से

स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण)

https://swachh.mp.gov.in, https://sbm.gov.in स्वच्छ भारत मिशन की शुरुआत 2 अक्टूबर 2014 को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा की

लगने वाले कार्य को पूरा किया गया। दिनांक 2 अक्टूबर 2019 तक देश के सभी जिलों ने स्वयं को खुले में शौच मुक्त घोषित कर दिया था।

स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) – 11

खुले में शौचमुक्त भारत का लक्ष्य प्राप्त करने के बाद इस कार्यक्रम के तहत प्राप्त लाभों को बनाए रखने के लिए तथा यह सुनिश्चित करने के लिए कि कोई भी वंचित न रह जाए और सभी गांवों को ODF से ODF प्लस में परिवर्तित करने के उद्देश्य से, स्वच्छता संबंधी कार्य, सभी स्तरों पर क्षमताकर्धन तथा व्यवहार परिवर्तन अभियाकर देवक।

भारत मिशन (ग्रामीण) चरण 11 को 2020-21 से 2024-25 की अवधि में मिशन मोड में कार्यान्वित किया जा रहा है। or प्लस गांव को एक ऐसे गांव के रूप में परिभाषित किया गया है जहाँ खुले में शौचमुक्त (ODF) स्थिति को स्थायी रूप से बनाए रखा गया हो, ठोस और तरल कचरा प्रबंधन सुनिश्चित हो और जो प्रत्यक्ष रूप से स्वच्छ दिखे।

स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण चरण-1 के प्रमुख घटक है •

  1. वैयक्तिक पारिवारिक शौचालयों का निर्माण
  2. शौचालयों की मरम्मत (रेट्रोफिटिंग)
  3. सामुदायिक स्वच्छता परिसरों का निर्मााण (CSC
  4. ठोस कचरा प्रबंधन
  5. बायो डिग्रेडेबल कचरा प्रबंधन
  6. कंपोस्टिंग- घरेलू स्तर एवं सामुदायिक स्तर पर कम्पोस्ट गढ्ढा
  7. गोबर-धन (Galvanizing Organic Bic agro Reiloxirces &dhan)
  8. प्लास्टिक कचरा प्रबंधन तरल कचरा प्रबंधन गंदे जल का प्रबंधन
  9. मलीय कचरा प्रबंधन

पंचायतीराज संस्थाओं की भूमिका

स्वच्छ भारत मिशन चरण-11 के योजना निर्माण, क्रियान्वयन, समन्वय और निगरानी में पंचायतराज संस्थाओं की महत्वपूर्ण भूमिका है। ग्राम पंचायतें ग्राम स्वच्छता योजना तैयार कर सामुदायिक स्वच्छता परिसर पर्यावरण स्वच्छता बुनियादी ढांचा, ठोस तरल अपशिष्ट प्रबंधन, जल निकासी व्यवस्था आदि अधोसंरचना से संबंधित परिसंपत्तियों के संरक्षक के रूप में कार्य करेंगी।

ब्लॉक और जिला दोनों ही स्तर के पंचायतीराज संस्थान नियमित रूप से इस कार्यक्रम के क्रियान्वयन की निगरानी करेंगे। ग्राम पंचायतें भी इसकी सतत निगरानी करेंगी एवं इसका सामाजिक अंकेक्षण कराएंगी।

स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) | से संबंधित विस्तृत जानकारी पेयजल एवं स्वच्छता विभाग, जलशक्ति मंत्रालय भारत सरकार की साइट पर उपलब्ध है।

सामुदायिक स्वच्छता परिसर (CSC)

राज्य स्वच्छ भारत मिशन अंतर्गत सीएससी का निर्माण जिला पंचायत के अन्य मदों जैसे सांसद, विधायक निधि, सीएसआर मनरेगा आदि की राशि से सहयोजित (कन्वरजेंस) कर स्वीकृत राशि से ज्यादा लागत का परिसर निर्मित कराया जा सकता है।

स्वच्छ भारत मिशन पोर्टल www.sbm.gov.in

स्वच्छ एमपी पोर्टल

स्वच्छ भारत मिशन अंतर्गत स्वच्छ भारत मिशन के हितग्राहियों एवं परीक्षको के लिए मध्य प्रदेश शासन द्वारा पोर्टल तैयार किया गया है. पोर्टल का यू.आर.एल http://www.swachh.mp.gov.in है भारत सरकार द्वारा तैयार पोर्टल का यूआरएल sbm.gov.in है।

पोर्टल के उपयोग

नागरिक सेवाएं

• हितग्राही द्वारा आवेदन दर्ज करना (ऑफ लाइन )

• दर्ज आवेदन की स्थिति

• रिपोर्टिंग

पंजीकृत यूजर (जिला पंचायत, जनपद पंचायत एवं ग्राम पंचायत) सेवाएं

• भुगतान

• परीक्षण कर्ताओं का पंजीकरण

परीक्षणकर्ता के अपलोड किये फोटो का सत्यापन करना

• रिपोर्टिंग

स्वच्छ पोर्टल

मोबाइल एप के द्वारा व्यक्तिगत शौचालय निर्माण एवं उपयोग का अनुश्रवण

स्वच्छ एमपी पोर्टल

PUBLICATIONS

Haty

की स्थ

प्रद

antoretal

11

Searst Maw

मोबाइल एप प्राथमिक जानकारी

स्वच्छ भारत मिशन (ग्रा.) की वेबसाइट- www.sbm.gov.in से यह एप डाउनलोड किया जा

सकेगा। संक्षिप्त में मोबाइल एप को उपयोग करने हेतु प्रक्रिया

एप को मोबाइल में डाउनलोड एवं installation • एप उपयोगकर्ताओं का एस.बी.एम (ग्रा) की MIS में पंजीयन

• उपयोगकर्ताओं का user id + password को create करना • ग्राम पंचायती ग्रामों का एप उपयोगकर्ता को आवंटन

• एप उपयोग हेतू च -user id / loginid एवं password उपयोगकर्ताओं को देना • उपयोगकर्ता के द्वारा कार्यक्षेत्र में एप के द्वारा फोटो लेना और अपलोड करना • अपलोड फोटो का जिले स्तर से सत्यापन

• उपयोगकर्ता की जानकारी में संशोधन • MIS में रिपोर्टिंग

Scroll to Top