पंचायतों के आय के स्त्रोत

रिसोर्स एनवलप

ग्राम पंचायत विकास योजना बनाने हेतु ग्राम पंचायतों में उपलब्ध संसाधनों का आंकलन किया जायेगा। ग्राम पंचायत में उपलब्ध संसाधनों की सूची तैयार करने में मानव संसाधन एवं वित्तीय संसाधनों का आंकलन मुख्य रूप से किया जायेगा। किसी भी देश अथवा प्रदेश का विकास केवल सरकारी क्षेत्र के परिव्यय पर ही निर्भर नहीं करता अपितु अन्य क्षेत्रों से उपलब्ध होने वाले संसाधनों का भी विभिन्न विकास कार्यक्रमों में महत्वपूर्ण योगदान होता है।

इसी प्रकार ग्राम पंचायत विकास योजना तैयार करते समय केवल राज्य द्वारा उपलब्ध कराये जाने वाले संसाधनों के अतिरिक्त विभिन्न स्रोतों से जैसे सहकारी समितियां, वित्तीय स्वायत्तशासी संस्थायें, लोगों की निजी पूंजी आदि स्रोतों से उपलब्ध संसाधनों का भी आंकलन किया जाना चाहिए।

पूर्व वर्षों की उपलब्धियों एवं भावी संसाधनों की उपलब्धता को ध्यान में रखने से यह अनुमान लगाना सम्भव हो सकेगा कि उनके आधार पर संचालित किये जाने वाले आर्थिक एवं अन्य कार्यक्रमों को भी योजना में सम्मिलित किया जाना है।

ग्राम पंचायत को प्राप्त होने वाली पंचपरमेश्वर समस्त राशियों तथा अन्य संसाधनों को एकजायी कर “रिसोर्स एनवलप” नाम से संबोधित किया गया है। रिसोर्स एनवलप में निम्न राशियाँ सम्मिलित होगी

1. ग्राम पंचायतों को करों, शुल्क, ब्याज, किराया आदि से प्राप्त होने वाली आय

2. 14 वे वित्त आयोग से प्राप्त होने वाली राशि

3. लेबर बजट अनुसार मनरेगा में ग्राम पंचायत के लिये नियत राशि

4. राज्य सरकार के पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा प्रदाय की जाने वाली समस्त राशियाँ।

5.राज्य सरकार के अन्य विभागों द्वारा अपनी नीति के तहत ग्राम पंचायतों को जारी की जाने वाली राशियाँ

6.जनपद पंचायत,

जिला पंचायत

जिला कलेक्टर द्वारा प्रदान की जाने वाली समस्त राशियाँ।

7. अन्य ऐसी योजनाएँ जिनमें ग्राम पंचायतों को सीधे राशि प्राप्त नहीं होती है पर वह अपनी पंचायत क्षेत्र के लिये हितग्राही या गतिविधि चयन कर उन योजनाओं का लाभ ग्राम पंचायत क्षेत्र में ले सकती है उनका आंकलन करके रिसोर्स एनवलप में सम्मिलित किया जाएगा। जैसे कि स्वच्छ भारत अभियान, इंदिरा आवास योजना एन.आर.एल.एम. आदि।

Scroll to Top