ग्राम पंचायत विकास योजना GPDP

ग्राम पंचायत विकास योजना (जीपीडीपी) https://gpdp.nic.in

ग्राम पंचायत विकास योजना ग्रामीण समाज के लिए समाज की भागीदारी से उनके समग्र विकास के लिए तैयार की जाती है। ग्राम पंचायतों के लिए संवैधानिक रूप से यह अनिवार्यता की गई है कि उनके पास उपलब्ध संसाधनों का उपयोग करते हुए आर्थिक विकास और सामाजिक न्याय की प्राप्ति के लिए ग्राम पंचायत विकास योजना तैयार की जाए।

ग्राम पंचायत विकास योजना जनभागीदारी आधारित होना चाहिए और समुदाय विशेषकर ग्रामसभा को शामिल करने वाली भागीदारी प्रक्रिया पर आधारित होना चाहिए और जो संविधान की ग्यारहवी अनुसूची में सूचीबद्ध 29 विषयों से संबंधित सभी विभागों की योजनाओं से अभिसारित होगी।

ग्राम पंचायत विकास योजना निर्माण में सहयोगी प्रमुख घटक है मानव विकास एवं सामाजिक विकास, ढांचागत विकास, पर्यावणीय मुद्दे एवं आपदा प्रबंधन, आर्थिक विकास सहित आय एवं रोजगार के सधन व्यक्तिगत एवं सामुदायिक मुद्दे और सुशासन एवं समावेशन शामिल हैं। जीपीडीपी योजना निर्माण की जनभागीदारी आधारित पारदर्शी प्रक्रिया के प्रमुख चरणों में शामिल हैं।

1 वातावरण निर्माण (ग्राम सभा आयोजन कर), 2 पारिस्थितिकीय विश्लेषण,

3 आवश्यकताओं तथा समस्याओं की पहचान और प्राथमिकताओं का निर्धारण (ग्राम सभा का आयोजन कर).

4 संसाधनों का निर्धारण तथा ड्राफ्ट का विकास 5 तकनीकी एवं वित्तीय स्वीकृति (ग्रामसभा का आयोजन कर)।

मिशन अंत्योदय

https://missionantyodaya.nic.in

केंद्रीय बजट 2017-18 में अपनाया गया. मिशन अन्त्योदय ग्रामीण क्षेत्रों के विकास के लिए विभिन्न कार्यक्रमों के तहत भारत सरकार के 27 मंत्रालयों/विभागों द्वारा आबंटित संसाधनों का इष्टतम उपयोग और प्रबंधन करने के लिए एक अभिसरण और जवाबदेही ढांचा है।

यह ग्राम पंचायतों के साथ राज्य के नेतृत्व वाली पहल के रूप में अभिसरण प्रयासों के केंद्र बिंदु के रूप में है। सभी ग्राम पंचायतों में वार्षिक सर्वेक्षण मिशन अंत्योदय ढांचे का एक महत्वपूर्ण पहलू है।

इसे पंचायत राज मंत्रालय के जन योजना अभियान (पीपीसी) के साथ किया जाता है और इसका उद्देश्य ग्राम पंचायत विकास योजना (जीपीडीपी) के लिए सहभागी योजना की प्रक्रिया का समर्थन करना, योजना की मूल इकाई के रूप में ग्राम पंचायतों के साथ विभिन्न सरकारी योजनाओं के अभिसरण के माध्यम से संसाधनों का प्रभावी उपयोग सुनिश्चित करना, सेवा वितरण में सुधार करना और हर वंचित परिवारों के लिए स्थाई आजीविका के लिए एक केंद्रित सूक्ष्म योजना तैयार करने में सहयोग करना है।

ग्राम पंचायत स्तर पर स्थानांतरित 29 विषयों का डेटा सर्वेक्षण के माध्यम से एकत्र किया जाता है और विभिन्न विकास संकेतकों पर आधारित बिंदुओं पर ग्राम पंचायत / ग्राम वार रैंकिंग और गैप एनालिसिस रिपोर्ट बनाने के लिए उपयोग किया जाता है जो जीपीडीपी योजना तैयार करने में महत्वपूर्ण इनपुट के रूप में कार्य करता है।

मिशन अंत्योदय सर्वेक्षण के लिए डिजाइन किए गए प्रश्नावली को भाग ए और बी के रूप में वर्गीकृत किया गया है जो मुख्य रूप से संविधान की 11 वी अनुसूची के 29 विषयों के तहत अधोसंरचना की उपलब्धता से संबंधित है।

जबकि पार्ट बी ग्रामीण गरीबों द्वारा स्वास्थ्य, पोषण, सामाजिक सुरक्षा, जल प्रबंधन और एक सभ्य जीवनयापन के लिए दक्षता जैसे क्षेत्रों में प्राप्त सेवाओं से संबंधित है। मिशन अंत्योदय संतृप्ति मोड में व्यक्तिगत घरेलू और

सामूदायिक स्तर पर अभावों को दूर करने के लिए सरकारी योजनाओं के गहन कवरेज के माध्यम से सभी पहचान किए गए अभावों को समयबद्ध तरीके से संबोधित करने के लिए प्रोत्साहित करता है।

Scroll to Top