जैविक खेती

Bajra ki kheti

बाजरा

बाजरा एक ऐसी फसल है ऐसे किसानो जो कि विपरीत परिस्थितियो एवं सीमित वर्षा वाले क्षेत्रो तथा बहुत कम उर्वरको की मात्रा के साथ, जहाँ अन्य फसले अच्छा उत्पादन नही दे पाती के लिए संतुत की जाती है।बाजरा की फसल जो गरीबो का मुख्य श्रोत है- उर्जा, प्रोट्रीन विटामिन, एवं मिनरल का । बाजरा शुष्क […]

बाजरा Read More »

Ram Til Ki Kheti

रामतिल की उन्नत कृषि तकनीकी

रामतिल की उन्नत कृषि तकनीकी आदिवासी बाहुल्य क्षेत्रों की जगनी के नाम से जाने जानी वाली रामतिल एक तिलहनी फसल है। मध्यप्रदेश में इसकी खेती लगभग 87हजार हेक्टेयर भूमि में की जाती है तथा 30हजार टन उत्पादन मिलता है। प्रदेश में देश के अन्य रामतिल उत्पादक प्रदेशों की तुलना से औसत उपज अत्यंत कम (343

रामतिल की उन्नत कृषि तकनीकी Read More »

Lahsun Ki kheti

लहसुन उन्नत उत्पादन तकनीक

मध्य प्रदेश में लहसून उत्पादन हेतु उन्नत उत्पादन तकनीक लहसुन एक कन्द वाली मसाला फसल है। इसमें एलसिन नामक तत्व पाया जाता है जिसके कारण इसकी एक खास गंध एवं तीखा स्वाद होता है। लहसुन की एक गांठ में कई कलियाँ पाई जाती है जिन्हे अलग करके एवं छीलकर कच्चा एवं पकाकर स्वाद एवं औषधीय तथा

लहसुन उन्नत उत्पादन तकनीक Read More »

Mooli ki Kheti

मूली की खेती

म.प्र. में गाजर एवं मूली की खेती प्रायः सभी जिलों में की जाती है। सामान्यतः सब्जी उत्पादक कृषक सब्जियों की अन्य फसलों की मेढ़ों पर या छोटे-छोटे क्षेत्रों में लगाकर आय अर्जित करते है। शीत ऋतु में ही कृषक दोनों फसलों को 50-60 दिन में तैयार कर पुनः बोवनी कर दो बार उपज प्राप्त कर लेते

मूली की खेती Read More »

Kodo Kutki

रागी कोदों कुटकी की उन्नत उत्पादन तकनीक

रागी कोदों एवं कुटकी की उन्नत उत्पादन तकनीक मध्य प्रदेश में सभी प्रकार की लघु धान्य फसलें के अंतर्लीगत जाती है। रागी कोदों कुटकी की उन्नत उत्पादन तकनीक लघु धान्य फसलों की खेती खरीफ के मौसम में की जाती है। सांवा, काकुन एवं रागीको मक्का के साथ मिश्रित फसल के रूप में लगाते हैं। रागी

रागी कोदों कुटकी की उन्नत उत्पादन तकनीक Read More »

Ragi

रागी (मडुआ) उत्पादन की उन्नत कृषि तकनीकी

रागी में कैल्षियम की मात्रा सर्वाधिक पायी जाती है जिसका उपयोग करने पर हड्डियां मजबूत होती है। रागी बच्चों एवं बड़ों के लिये उत्तम आहार हो सकता है। प्रोटीन, वसा, रेषा, व कार्वोहाइड्रेट्स इन फसलों में प्रचुर मात्रा में पाये जाते है। महत्वपूर्ण विटामिन्स जैसे थायमीन, रिवोफ्लेविन, नियासिन एवं आवश्यक  अमीनों अम्ल की प्रचुर मात्रा

रागी (मडुआ) उत्पादन की उन्नत कृषि तकनीकी Read More »

Til ki kheti

तिल की खेती

मध्य प्रदेश मे तिल की खेती खरीफ मौसम में लगभग 320 हजार हे. में की जाती है। साथ ही मध्य प्रदेश मे तिल की औसत उत्पादन लगभग 500 कि.ग्रा. प्रति हेक्टेयर के लगभग है। तिल की खेती के प्रमुख जिले तिल की खेती मध्य प्रदेश के मुख्यतःनिम्न जिलों में ज्यादा होती हैं। छतरपुर, टीकमगढ़, सीधी,

तिल की खेती Read More »

Jaivik Kheti

जैविक खेती कैसे करें (Organic Farming)

जैविक खेती कैसे करें (Organic Farming) की आवश्यकता संपूर्ण विश्व में तेजी से बढ़ती हुई जनसंख्या के कारण के साथ-साथ भोजन की आपूर्ति के लिए मानव द्वारा खाद्य उत्पादन की होड़ में अधिक से अधिक उत्पादन प्राप्त करने के लिए तरह-तरह की रासायनिक खादों का इस्तमाल और जहरीले कीटनाशकों का उपयोग करके हमने, प्रकृति के

जैविक खेती कैसे करें (Organic Farming) Read More »

Scroll to Top