कृषि

Moong ki Fasal

उड़द

मानसिक विकार पेट की बीमारियाँ तथा गठियावात जैसी बीमारियो को दूर करने की क्षमता होती उड़द एक महत्वपूर्ण दलहन फसल है। उड़द की खेती प्राचीन समय से होती आ रही है। हमारे धर्म ग्रंथो मे इसका कई स्थानो पर वर्णन पाया गया है। उड़द का उल्लेख कौटिल्य के “अर्थशास्त्र तथा चरक सहिंता” मे भी पाया गया […]

उड़द Read More »

Bajra ki kheti

बाजरा

बाजरा एक ऐसी फसल है ऐसे किसानो जो कि विपरीत परिस्थितियो एवं सीमित वर्षा वाले क्षेत्रो तथा बहुत कम उर्वरको की मात्रा के साथ, जहाँ अन्य फसले अच्छा उत्पादन नही दे पाती के लिए संतुत की जाती है।बाजरा की फसल जो गरीबो का मुख्य श्रोत है- उर्जा, प्रोट्रीन विटामिन, एवं मिनरल का । बाजरा शुष्क

बाजरा Read More »

Sunflower

सूरजमुखी की खेती

मध्यप्रदेश की जलवायु एवं भूमि सूर्यमुखी की खेती के लिए उपयुक्त है। प्रदेश के मालवा निमाड़ क्षेत्र में जहां वर्षा 30 इंच से कम होती है, में इसकी लागत खरीफ की फसल के रूप में ली जाती है। निमाड़ क्षेत्र में यह मूंगफली, मूंग, कपास आदि फसल के साथ उगाई जा सकती है। पिछेती खरीफ

सूरजमुखी की खेती Read More »

Paddy farming

धान

धान का कटोरा कहे जाने वाले छत्तीसगढ़ को, जो मध्यप्रदेशसे अलग हो जाने के बावजूद भी इस प्रदेश के पास लगभग 17.26 लाख हेक्टर भूमि में धान की खेती को प्रमुखता के साथ की जाती है। परिचय: धान उत्पादन की उन्नत तकनीकी वर्ष 2007-2008 2012-2013 क्षेत्रफल (लाख हे.) उत्पादकता (किग्रा/हे.) क्षेत्रफल (लाख हे.) उत्पादकता (किग्रा/हे.)

धान Read More »

Arhar ki kheti

अरहर उत्पादन तकनीक

मध्यप्रदेश में दलहनी फसलों के स्थान पर सोयाबीन के क्षेत्रफल में वृद्धि होने से दलहनी फसलों का रकबा घट रहा है। साथ-साथ अरहर फसल का क्षेत्र उपजाऊ समतल जमीन से हल्की ढालू, कम उपजाऊ जमीन पर स्थानांतरित हो रहा है जिससे उत्पादन में भारी कमी हो रही है। परंतु अरहर फसल की व्यापक क्षेत्रों के

अरहर उत्पादन तकनीक Read More »

Ram Til Ki Kheti

रामतिल की उन्नत कृषि तकनीकी

रामतिल की उन्नत कृषि तकनीकी आदिवासी बाहुल्य क्षेत्रों की जगनी के नाम से जाने जानी वाली रामतिल एक तिलहनी फसल है। मध्यप्रदेश में इसकी खेती लगभग 87हजार हेक्टेयर भूमि में की जाती है तथा 30हजार टन उत्पादन मिलता है। प्रदेश में देश के अन्य रामतिल उत्पादक प्रदेशों की तुलना से औसत उपज अत्यंत कम (343

रामतिल की उन्नत कृषि तकनीकी Read More »

Ragi

रागी (मडुआ) उत्पादन की उन्नत कृषि तकनीकी

रागी में कैल्षियम की मात्रा सर्वाधिक पायी जाती है जिसका उपयोग करने पर हड्डियां मजबूत होती है। रागी बच्चों एवं बड़ों के लिये उत्तम आहार हो सकता है। प्रोटीन, वसा, रेषा, व कार्वोहाइड्रेट्स इन फसलों में प्रचुर मात्रा में पाये जाते है। महत्वपूर्ण विटामिन्स जैसे थायमीन, रिवोफ्लेविन, नियासिन एवं आवश्यक  अमीनों अम्ल की प्रचुर मात्रा

रागी (मडुआ) उत्पादन की उन्नत कृषि तकनीकी Read More »

Moong ki Fasal

मूंग उत्पादन की उन्नत तकनीक

मध्यप्रदेश में मूंग ग्रीष्म एवं खरीफ दोनो मौसम की कम समय में पकने वाली एक मुख्य दलहनी फसल है। इसके दाने का प्रयोग मुख्य रूप से दाल के लिये किया जाता हैजिसमें 24-26% प्रोटीन,55-60% कार्बोहाइड्रेट एवं 1.3%वसा होता है। दलहनी फसल होने के कारण इसकी जड़ो में गठाने पाई जाती है जो कि वायुमण्डलीय नत्रजन

मूंग उत्पादन की उन्नत तकनीक Read More »

Til ki kheti

तिल की खेती

मध्य प्रदेश मे तिल की खेती खरीफ मौसम में लगभग 320 हजार हे. में की जाती है। साथ ही मध्य प्रदेश मे तिल की औसत उत्पादन लगभग 500 कि.ग्रा. प्रति हेक्टेयर के लगभग है। तिल की खेती के प्रमुख जिले तिल की खेती मध्य प्रदेश के मुख्यतःनिम्न जिलों में ज्यादा होती हैं। छतरपुर, टीकमगढ़, सीधी,

तिल की खेती Read More »

Scroll to Top