उद्यानकी

सहजन की खेती (Moringa)

सहजन के पेड़ (Moringa oleifera Lamk,)अच्छी तरह से अपनी बहु प्रयोजन के गुण, विस्तृत अनुकूलनशीलता और स्थापना की आसानी के लिए जाना जाता है। इसकी पत्तियां, फली और फूलों सभी मनुष्यों और पशुओं दोनों के लिए पोषक तत्वों के साथ पैक कर रहे हैं। संयंत्र के लगभग हर हिस्से में भोजन की है मूल्य। पत्ते […]

सहजन की खेती (Moringa) Read More »

kela ki kheti

केला

1. म.प्र. में केला का कुल क्षेत्रफल लगभग 26.02 हजार हेक्टर , उत्पादन 1448.13 टन एवं उत्पादकता 55.65 (APEDA। 2012..13)टन हेक्टर2. प्रदेश में इसकी खेती बुरहानपुर, खरगौन, धार, बडवानी, शाजापुर, राजगढ आदि जिलों में प्रमुख रूप से की जाती है।3. बुरहानपुर मे केले की खेती लगभग 20200 हेक्टेयर क्षेत्र मे की जाती है उत्पादकता लगभग

केला Read More »

Lahsun Ki kheti

लहसुन उन्नत उत्पादन तकनीक

मध्य प्रदेश में लहसून उत्पादन हेतु उन्नत उत्पादन तकनीक लहसुन एक कन्द वाली मसाला फसल है। इसमें एलसिन नामक तत्व पाया जाता है जिसके कारण इसकी एक खास गंध एवं तीखा स्वाद होता है। लहसुन की एक गांठ में कई कलियाँ पाई जाती है जिन्हे अलग करके एवं छीलकर कच्चा एवं पकाकर स्वाद एवं औषधीय तथा

लहसुन उन्नत उत्पादन तकनीक Read More »

Mooli ki Kheti

मूली की खेती

म.प्र. में गाजर एवं मूली की खेती प्रायः सभी जिलों में की जाती है। सामान्यतः सब्जी उत्पादक कृषक सब्जियों की अन्य फसलों की मेढ़ों पर या छोटे-छोटे क्षेत्रों में लगाकर आय अर्जित करते है। शीत ऋतु में ही कृषक दोनों फसलों को 50-60 दिन में तैयार कर पुनः बोवनी कर दो बार उपज प्राप्त कर लेते

मूली की खेती Read More »

Papaya Farming

पपीता

पपीता, विश्व के उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में उगाया जाने वाला महत्वपूर्ण फल है। केला के पश्चात् प्रति ईकाई अधिकतम उत्पादन देने वाली एवं औषधीय गुणों से भरपूर फलदार पौधा है। पपीता को भारत में लाने का श्रेय डच यात्री लिन्सकाटेन को जाता है जिनके द्वारा पपीता के पौधे वेस्टइंडीज से सन् 1575 में मलेशिया लाया फिर

पपीता Read More »

Ginger Agriculture

अदरक की खेती कैसे करे

अदरक सामान्य परिचय ‘अदरक‘ शब्द की उत्पत्ति संस्कृत भाषा के स्ट्रिंगावेरा से हुई, जिसका अर्थ होता है, एक ऐसा सींग या बारहा सिंधा के जैसा शरीर ।अदरक मुख्य रूप से उष्ण क्षेत्र की फसल है । संभवत: इसकी उत्पत्ति दक्षिणी और पूर्व एशिया में भारत या चीन में हुई । भारत की अन्य भाषाओं में

अदरक की खेती कैसे करे Read More »

Capsicum Forming

शिमला-मिर्च की खेती कैसे करें?

हमारे भारत देश मे उगाई जाने वाली विभिन्न प्रकार की सब्जियों मे टमाटर , भिन्डी, बैगन ,लौकी एवं शिमला मिर्च (कैपसीकम एनम) का एक महत्वपूर्ण स्थान है। शिमला मिर्च को सामान्यता बेल पेपर भी कहतें है। इसमे विटामिन-सी एवं विटामिन -ए तथा खनिज लवण जैसे आयरन, पोटेशियम, ज़िंक, कैल्शियम इत्यादी पोषक तत्व प्रचुर मात्रा मे

शिमला-मिर्च की खेती कैसे करें? Read More »

Gajar Ki Kheti

गाजर उत्पादन उन्नत तकनीक

गाजर उत्पादन उन्नत तकनीक गाजर का जड़ वाली सब्जियों में प्रमुख स्थान है। इसे संपूर्ण भारत में उगाया जाता है। इसका उपयोग सलाद, अचार, हलुआ आदि बनाने में किया जाता है। गाजर में विटामिन ए’’ अधिक मात्रा में पाया जाता है। जलवायु गाजर को विभिन्न प्रकार की भूमियों में उगाया जा सकता हैं। लेकिन, अच्छी

गाजर उत्पादन उन्नत तकनीक Read More »

Peanut Farming

मूंगफली की उन्नत फसल उत्पादन तकनीक

मूंगफली म.प्र. में मूंगफली प्रमुख रूप से शिवपुरी, छिंदवाड़ा, बड़वानी, टीकमगढ, झाबुआ, खरगोन जिलों में लगभग 220 हजार हैक्टेयर क्षेत्रफल में होती है। ग्रीष्मकालीन मूंगफली का क्षेत्र विस्तार धार, रतलाम, खण्डवा, अलीराजपुर, बालघाट, सिवनी, होशंगाबाद एंव हरदा जिलों में किया जा सकता है।  मूंगफल में तेल 45 से 55 प्रतिशत, प्रोटीन 28 से 30 प्रतिशत

मूंगफली की उन्नत फसल उत्पादन तकनीक Read More »

Chilli Farming

मिर्च Chilli Farming

मिर्च भारत की प्रमुख मसाला फसल है। वर्तमान में भारत में 7,92000 हेक्टेयर में मिर्च की खेती की जा रही है। जिसमे 12,23000 टन उत्पादन प्राप्त होता है। भारत में आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, महाराष्ट्र, उड़ीसा, तमिलनाडु, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल तथा राजस्थान प्रमुख मिर्च उत्पादक राज्य हैं। जिनसे कुल उत्पादन का 80 प्रतिशत भाग प्राप्त

मिर्च Chilli Farming Read More »

Scroll to Top