आयुर्वेदिक कृषि

सहजन की खेती (Moringa)

सहजन के पेड़ (Moringa oleifera Lamk,)अच्छी तरह से अपनी बहु प्रयोजन के गुण, विस्तृत अनुकूलनशीलता और स्थापना की आसानी के लिए जाना जाता है। इसकी पत्तियां, फली और फूलों सभी मनुष्यों और पशुओं दोनों के लिए पोषक तत्वों के साथ पैक कर रहे हैं। संयंत्र के लगभग हर हिस्से में भोजन की है मूल्य। पत्ते […]

सहजन की खेती (Moringa) Read More »

isabgol cultivation

ईसबगोल

ईसबगोल Plantago ovata Forsk. एक अत्यंत महत्वपूर्ण औषधीय फसल है।औषधीय फसलों के निर्यात में इसका प्रथम स्थान हैं। वर्तमान में हमारे देश से प्रतिवर्ष 120 करोड के मूल्य का ईसबगोल निर्यात हो रहा है। विश्व में ईसबगोल का सबसे बडा उपभोक्ता अमेरिका है। विश्व में इसके प्रमुख उत्पादक देश ईरान, ईराक, अरब अमीरात, भारत, फिलीपीन्स

ईसबगोल Read More »

Lahsun Ki kheti

लहसुन उन्नत उत्पादन तकनीक

मध्य प्रदेश में लहसून उत्पादन हेतु उन्नत उत्पादन तकनीक लहसुन एक कन्द वाली मसाला फसल है। इसमें एलसिन नामक तत्व पाया जाता है जिसके कारण इसकी एक खास गंध एवं तीखा स्वाद होता है। लहसुन की एक गांठ में कई कलियाँ पाई जाती है जिन्हे अलग करके एवं छीलकर कच्चा एवं पकाकर स्वाद एवं औषधीय तथा

लहसुन उन्नत उत्पादन तकनीक Read More »

Kodo Kutki

रागी कोदों कुटकी की उन्नत उत्पादन तकनीक

रागी कोदों एवं कुटकी की उन्नत उत्पादन तकनीक मध्य प्रदेश में सभी प्रकार की लघु धान्य फसलें के अंतर्लीगत जाती है। रागी कोदों कुटकी की उन्नत उत्पादन तकनीक लघु धान्य फसलों की खेती खरीफ के मौसम में की जाती है। सांवा, काकुन एवं रागीको मक्का के साथ मिश्रित फसल के रूप में लगाते हैं। रागी

रागी कोदों कुटकी की उन्नत उत्पादन तकनीक Read More »

Ragi

रागी (मडुआ) उत्पादन की उन्नत कृषि तकनीकी

रागी में कैल्षियम की मात्रा सर्वाधिक पायी जाती है जिसका उपयोग करने पर हड्डियां मजबूत होती है। रागी बच्चों एवं बड़ों के लिये उत्तम आहार हो सकता है। प्रोटीन, वसा, रेषा, व कार्वोहाइड्रेट्स इन फसलों में प्रचुर मात्रा में पाये जाते है। महत्वपूर्ण विटामिन्स जैसे थायमीन, रिवोफ्लेविन, नियासिन एवं आवश्यक  अमीनों अम्ल की प्रचुर मात्रा

रागी (मडुआ) उत्पादन की उन्नत कृषि तकनीकी Read More »

castor agriculture

अरण्डी की खेती कम लगत में अधिक मुनाफा

अरंड (रिसिनस कम्यूनिस एल.) ये महत्तवपूर्ण औद्यौगिक तेल प्राप्त होता है। अरंड की खली अच्छी जैविक खाद है। रेषम के कीडे़ अरंड की पत्तियां खाते है इसलिए एरीसिल्क उत्पादक क्षेत्रों में अरंड के पौधे एरीसिल्क कृमियों के पोषण के लिए लगाए जा सकते हैं। वर्ष 2005-06 में देष में 8.64 लाख हैक्टर क्षेत्र से अरंड

अरण्डी की खेती कम लगत में अधिक मुनाफा Read More »

Scroll to Top