किसान कल्याण एवं कृषि विकास योजना

कम पानी में ज्यादा से ज्यादा क्षेत्र को सिंचित करना, फसलों का उत्पादन, उत्पादकता एवं गुणवत्ता को बढ़ाना, कृषक के पास स्वयं की भूमि एवं जल स्रोत उपलब्ध हो/ ऑनलाईन किसान स्वयं ऑनलाईन पोर्टल पर अपना पंजीयन कराकर किसान कल्याण एवं कृषि विकास योजना का लाभ ले सकता है।

किसान कल्याण एवं कृषि विकास योजना

गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन कर रहे लघु, सीमान्त किसानों तथा खेतिहर मजदूरों को ताजी, पौष्टिक सब्जी प्रतिदिन, प्रति व्यक्ति उपलब्ध कराने हेतु स्वयं की बाड़ी में सब्जी उत्पादन करने के लिये प्रोत्साहित करना। शहरी/ग्रामीण क्षेत्र में गरीबी रेखा से नीचे जीवन निर्वाह करने वाले लघु सीमांत किसानों तथा खेतिहर मजदूरों के परिवारों की सर्वेक्षित सूची में नाम शामिल होना आवश्यक है। इसके साथ ही आवास के आसपास बाड़ी की भूमि भी होना आवश्यक है ।

किसान कल्याण एवं कृषि विकास विभाग

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना (PMKSY)

https://mpkrishi.gov.in

कृषकों को अनुदान सहायता आदान सामग्री के रूप में निशुल्क उपलब्ध कराई जाती है, जिसका भुगतान संबंधित प्रदायकर्ता संस्था / विभाग को किया जाता है अन्नपूर्णा योजना

उद्देश्य अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति, लघु एवं सीमांत कृषक जो विपुल उत्पादन देने वाली खाद्यान्न फसलो की उन्नत किस्मो के बीज क्रय करने में असमर्थ होते है, ऐसे कृषको को उन्नत बीज उपलब्ध कराना जिससे उत्पादकता एवं उत्पादन बढाकर उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार लाया जा सके।

बीज अदलाबदली- कृषक द्वारा दिये गये अलाभकारी फसलों के बीज के बदले 1 हेक्टेयर की सीमा तक खाद्यान्न फसलों की उन्नत और सकर बीज प्रदान किये जाते है प्रदान बीच पर 75 प्रतिशत अनुदान, अधिकतम रु. 1500/- की पात्रता होती है।

बाड़ी (किचिन गार्डन) योजना


बलराम तालाब योजना

उद्देश्य बलराम तालाब निर्माण योजना सतही तथा भूमिगत जल की उपलब्धता की समृद्ध करना है। तालाब किसानों द्वारा स्वयं के खेतों पर बनाये जाते है। इनसे फसलों में जीवन खाक सिचाई तो की ही जा सकती है किंतु भू-जलसंवर्धन तथा सीप के कुओं और नलकूपों को चार्ज करने के लिये भी ये अत्यंत उपयोगीद्ध हुये है।

योजना सम्पूर्ण मध्य प्रदेश मे संचालित है जिसमे सभी वर्ग के पात्र किसानों को तालाब निर्माण के लिये दिया जाता है। योजना का लाभ चयनित कृषक केवल एक बार ही सकते है।कृषकों द्वारा क्षेत्रीय ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी को तालाब बनाने हेतु दिये गये आवेदन के आधार पर स्वीकृति जिला पंचायत द्वारा प्रदान की जाती है।

अनुदान हेतु तालाब निर्माण होने पर प्रथम आयें और प्रथम पाये के आधार पर वरीयता दी जाती है। बलराम तालाब के निर्माण कार्य की प्रगति एवं मूल्यांकन के आधार पर पात्रता अनुसार अनुदान देने का प्रावधान है।

जैविक खेती विकास कार्यक्रम

राष्ट्रीय कृषि विकास योजना अंतर्गत नवीन जैविक खेती विकास कार्यक्रम समन्धित पोषक तत्व प्रबन्धन एवं उर्वरकों के संतुलित व समन्वित उपयोग द्वारा भूमि के स्वास्थ्य को बनाये रखते हुए दीर्घकाल तक टिकाऊ उत्पादन प्राप्त करना। इसका क्षेत्र सम्पूर्ण राज्य है व समस्त श्रेणी के कृषक पात्रता रखते हैं।

हरी खाद बीज वितरण योजना

अनुदान व प्रशिक्षण प्रावधान हरी खाद बीज वितरण लागत का 25 प्रतिशत अधिकतम रु. 1000/ प्रति हेक्टर जो भी कम हो। वर्मीकम्पोस्टिंग पिट लागत का 25 प्रतिशत अधिकतम रू. 1000/ प्रति हेक्टेयर जो भी कम हो हितग्राही चयन कृषि स्थाई समिति के अनुमोदन अनुसार।

मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना

पीएम किसान सम्मान निधि के तर्ज पर मध्यप्रदेश सरकार ने भी मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना शुरू की है। इस योजना के तहत किसानों को 2000 रुपये की 2 किस्त में सालाना 4000 रुपये दिए जाएंगे पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी के जन्मदिवस पर 25 सितंबर 2020 से मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना की राशि किसानों के खाते में जानी शुरू हो गई है।

उन सभी किसानों को पी.एम. किसान सम्मान निधि के तहत सालाना 6000 रुपये का लाभ भी मिलता रहेगा। इस योजना के तहत पटवारी के द्वारा योजना की पात्रता का सर्वे किया जाएगा। उनके बारे में जानकारी किसान सम्मान निधि पोर्टल पर दर्ज रहेगी. क्षेत्र के पटवारी किसानों के बारे में पूरी जानकारी का वेरीफिकेशन करेंगे।

किसानों को सिर्फ एक बार क्षेत्र के पटवारी को भौतिक रूप से आवेदन देना होगा। आगे की प्रक्रिया मोबाइल पर ही हो जाएगी. किसानों को राशि प्राप्त होने की सूचना भी उनके मोबाइल पर ही मिल जाएगी।

Scroll to Top